Recent Posts

Archive

Tags

No tags yet.

चले चल

ऐ मुसाफ़िर चले चल,

साँसों को बहने दे लम्हों पर,

ऐ मुसाफ़िर चले चल,

मंज़िल का तुझे अब क्या डर।

- तरुण





all rights reserved

​तरुण