जीना


जीना है काम नहीं

सोच है लगाम नहीं,


खोल तो सही ख़ुद को

अज़म-ए-ख़ुदी क्यूँ सरेआम नहीं? —————————————

To live, it’s not work

Think, there are no constraints


Just open the self right now

Why hide its resolution from outside?


T